Kamakhya Vashikaran

Get Resolved All Problems +91-9166526260
14 Mar 2018

राहु की महादशा : प्रभाव एवं उपाय

राहु की महादशा

राहु की महादशा

वैदिक शास्त्र के अनुसार ब्रह्माण्ड में नवग्रह उपस्थित है । हर ग्रह का एक अलग प्रभाव जातक के जीवन पर पड़ता है । हर ग्रह का अपना महत्व है लेकिन अगर देखा जाये तो इंसान इनमे से कुछ ग्रहो को लेकर थोड़ा गंभीर होता है । इनमे से एक है – राहु । राहु ग्रह एक छाया ग्रह है किन्तु इसको ज्योतिष शास्त्र में पूर्ण रूप में माना जाता है । राहु आद्र्रा, स्वाति एवं शतभिषा नक्षत्र का स्वामी है। पौराणिक कहानियो के मुताबिक राहु केवल सर वाला भाग है । इसका बाकि का पूर्ण शरीर गुप्त है । इसके पीछे भी एक कहानी है ।
राहु की बुद्धि का मालिक भी कहा जाता है क्यों की जब राहु की महादशा का प्रभाव जातक पर होता है, तो जातक की बुद्धि भ्रस्ट हो जाती है । चूं‍कि राहू का स्‍वभाव गूढ़ है, सो यह समस्‍याएं भी गूढ़ देता है। राहु की महादशा अगर खराब है तो जातक को मानसिक रूप से पीड़ित करता है । ज्योतिष के अनुसार राहु की समस्याए ही सबसे लम्बी होती है । ऐसे में जातक को राहु के लिए उपाय करने चाहिए एवं कुशल ज्योतिषी की मदद लेनी चाहिए ।

राहु की महादशा के उपाय लाल किताब

हर जातक की कुंडली में नव ग्रहो की समय सूचि रहती है की कोनसा ग्रह कितने समय तक प्रभावी रहेगा । ग्रहो को मुख्या प्रभाव काल ही महादशा होती है । इसके बाद अन्तर्दशा फिर प्रत्यंतर दशा होती है । हर जातक की कुण्‍डली में राहु की महादशा 18 साल की आती है। इस महादशा में राहु जातक को अच्छे बुरे हर तरह के फल देता है । जब भी किसी जातक की कुंडली में राहु की महादशा आती है तब उसके जीबन में परिवर्तन जरूर आता है । चाहे अच्छा हो या बुरा । इस प्रकार एक ही ग्रह जातक की कुंडली में अच्छे या बुरे प्रभाव एक साथ नई दे सकता है । क्यों की राहु की महादशा में अन्य ग्रहो की दशा भी देखि जाती है । जब किसी भी ग्रह की महादशा होती है तो उसमे अन्य सभी ग्रहों की अन्तर्दशा चलती है । इस तरह प्रत्येक ग्रह का प्रभाव जातक पर पड़ता है ।

राहु की महादशा के प्रभाव एवं उपाय :

१. राहु की महादशा में जब राहु मेलफिक (नीच ) का होता है तो मानसिक रूप से सबसे ज्यादा पीड़ित करता है । जातक का ध्यान गलत रस्ते की तरफ ज्यादा आकर्षित करता है ।
२. जातक को मानसिक शांति नई मिल पाती है एवं नींद न आने की बीमारी हो जाती है । जिससे मन अशांत रहता है ।
३. राहु की महादशा के बुरे प्रभाव में जातक को पेट से सम्भंदित विकार हो जाते है ।
४. बुरे प्रभाव में जातक के जीवन में बदनामी का अवसर बना रहता है ।
५. काम कारोबार की तरफ से भी जातक परेशान रहता है ।

 राहु की महादशा के उपाय

१. जातक को अपने पास चांदी की वस्तु धारण करनी चाहिए – जैसे – चांदी की अंगूठी ।
२. दूध और चावल का दान करना चाहिए ।
३. मसूर की दाल का दान करना चाइये ।
४. जातक को जौ को बहते हुए पानी में जल प्रवाह करना चाहिए ।
५. भगवान शिव के रौद्र अवतार भगवान भैरव के मंदिर में रविवार को शराब चढ़ाएं और तेल का दीपक जलाएं।
६. जातक को शराब का सेवन कतई नहीं करना चाहिए ।

राहु की महादशा में अन्तर्दशा

राहु की महादशा किसी भी इंसान के जीवन में 18 साल के लिए आती है । इस समय में राहु की दशा तीन विभिन्न भाग में प्रभाव ड़ालता है । राहू की महादशा में अंतरदशाएं इस क्रम में आती हैं राहू-गुरू-शनि-बुध-केतू-शुक्र-सूर्य- चंद्र और आखिर में मंगल। ज्योतिष आचार्य टी.सी. शास्त्री जी राहु की महादशा का और उसमे अन्तर्दशा का विस्तृत समय सारणी प्रस्तुत कर रहे है ।

                  अंतरदशाएं                     अवधि
राहु 2-8-12
गुरु 2-4-24
शनि 2-10-6
बुध 1-6-18
केतु 1-0-18
शुक्र 3-0-0
चंद्र 1-6-0
सूर्य 0-10-24
मंगल 1-0-18

Rahu ki Mahadasha

Famous Astrologer T.C. Shastri ji says that there are nine main planets existing in the universe. Every planet has some effect upon the human life. But peoples are more serious about some specific planets among all of them. Rahu is the one of them. People are very aware about the Rahu ki Mahadasha and their effect in their life. According to the Vedic Astrology it is called that Rahu is an partial planet. It is the Lord (Swami) of adra, swati, shatshibha nakshtra.

Rahu ki Mahadasha is the time period in which it is active and effective in human life. It effect mostly upon the mental strength of the person. People can’t take any decision properly as it make disturb mentally. When it is in their malefic position it destroy the prosperity from the life. People affected this start to face many problems like : Relationship issues, business, Physical problems etc. So if you are also having this kind of problems then you must consult expert astrologer. You must check your (Kundli)Horoscope by astrologer. You will find best astrology remedies for Rahu ki Mahadasha by which you can get rid of this.

Effects of Rahu ki Mahadasha

  1. Jataka face mentally problems and attracted towards to bad things.
  2.  People get affected by sleeping disease and stomach disease.
  3. Rahu ki Mahadasha if malefic then destroy powers & prestige.
  4. Jataka face problems in business and relationship also.
  5. Even After doing handwork, people can’t be succeed in getting desired result.

Remedies for Rahu ki Mahadasha :

  • Worship the Lord “Bhairav” and donate to the beggers.
  • Donate Milk & Rice to the temple.
  • Keep a silver square piece
  • Donate ‘Massur’ daal or give some monetary help to the poor off and on.
  • Throw “Jau” in the running water.
  • Wash barley with cow urine; wrap it in a red coloured cloth & keep it.

For more details about astrology remedies you can visit our website or consult with us. If you are looking some remedies and solution for Love Marriage then you can get result within 3 days.

Send Your Query Here :

Leave a Reply